शनिवार, 23 अक्तूबर 2010

वापसी: एक अरसे के बाद

एक मुद्दत के बाद इस चिठ्ठे पर कोई पोस्ट कर रहा हूँ। लगभग साढ़े तीन साल के बाद। पर इसका यह मतलब कतई नहीं है कि मैं पुराना चिट्ठाकार हूँ, दरअसल तब नया-नया चिटठा जगत से परिचित हुआ था तो सोचा मैं  भी चिटठा बना लूँ सो बना लिया। पर कुल जमा चार-पांच पोस्ट तक आकर ही रुक गया सो कायदे से चिट्ठाकार भी न बन पाया। तब कुछ व्यस्तताएँ और चिंताएँ ऐसी थीं कि मेरी प्राथमिकताओं में ब्लॉगिंग बहुत नीचे चला गया था। तो चिट्ठे से एक दूरी सी बन गई जो कि वक्त के साथ बढ़ती गई। फिर कुछ ऐसी भी बातें थीं जिनके चलते ब्लॉगिंग मे मेरी रुचि भी कम हो गई। लिखना भले ही बंद कर दिया हो पर अपने पसंद के चिट्ठों को कभी कभार पढ़ जरूर लेता था। हालाँकि नियमित नहीं रहा। फिर यह हुआ कि चिट्ठा जगत से ही दूर हो गया।

काफी अरसे के बाद एक बार फिर चिट्ठा जगत में प्रविष्ट हुआ। बहुत से बदलाव देखने को मिले। हिन्दी चिट्ठाकारों की संख्या भी कई गुना बढ़ चुकी है। वैसे तो तब भी  कम चिट्ठाकार नहीं थे। ( अफ़सोस हे कि यह भी नहीं कह सकता कि तब से हिंदी चिट्ठाकारी से जुड़ा हूँ जब यह अपने शुरुआती दौर मे था ) कुछ चीज़ें अच्छी लगी तो कुछ बुरी भी लगी। खैर ये चर्चा फिर कभी सही।

तो साहब पिछले कुछ दिनों से फिर से चिट्ठाकारी शुरू करने का मन बना रहा था, शायद अब इसके लिए
थोड़ा समय भी निकाल सकूँ। पहले सोचा नया चिठ्ठा बनाऊं फिर सोचा जब बना बनाया रखा ही है तो क्यों उसी मरे हुए ब्लॉग को फिर जिंदा किया जाए। तो नतीजा आपके सामने है अपने पुराने चिट्ठे को घिस-घिसु के, चमका-धमका के, रंगाई- पुताई कर के फिर से बाज़ार मे उतार दिया। पुराना कबाड़ (पोस्ट और टिप्पणियाँ ) साफ़ नहीं किया ताकि सनद रहे कि हम पहले भी चिट्ठाकारी कर चुके हैं।

अब देखते हैं इस बार ये सिलसिला कहाँ तक जाता है !!!

8 टिप्‍पणियां:

  1. फिर से वापसी पर बधाई और शुभकामनायें। इन्तजार रहेगा अगली पोस्ट का।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभकामनायें
    अगली पोस्ट का इन्तजार रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको शुभकामनायेँ फिर से वापस आने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अजी चिट्ठाकार तो बन्दा एक पोस्ट लिखते ही बन जाता है इसलिये हम तो आपको पुराने चिट्ठाकार ही मानेंगे। परिचर्चा पर क्या शानदार महफिल जमती थी हमें याद है।

    पुनः वापसी पर स्वागत है आपका। उम्मीद है अब लिखते रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. The blog is very good! Congratulations!
    http://nelsonsouzza@blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह! बहुत ख़ुशी हुई आपकी वापसी पर. इंतज़ार है अगली पोस्ट का.
    वापसी के लिए शुक्रिया और बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. निर्मला जी, हिमांशु जी, विशाल जी, नवीन जी, श्रीश जी, नेल्सन जी और विनायक भाई उत्साहवर्धन के लिये आप सभी का आभारी हूँ। बहुत बहुत धन्यवाद।

    श्रीश भाई परिचर्चा की खूब याद दिलाई आपने। परिचर्चा के बंद होने का मुझे सचमुच बहुत दुख हुआ था। इस बारे मे आपसे चर्चा भी हुई थी। उम्मीद है जल्द ही इसी तरह का कोई नया हिन्दी मंच हमारे बीच होगा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी आलोचनात्मक टिप्पणियों और सुझावों का स्वागत है। यदि आपको कोई बात बुरी या आपत्तिजनक लगी हो अथवा आप मेरे विचारों से सहमत न हों तो भी अवश्य टिप्पणी करें। कोई भी टिप्पणी हटाई नहीं जायेगी बशर्ते उसकी भाषा शिष्ट हो।