गुरुवार, 17 मार्च 2011

उल्टा है जमाना उल्टे चलो

एक थे बाबाजी। फक्कड़ टाइप के थे, जंगल में रहते थे। इनका नियम था कि रोज सुबह उठते ही डटकर भोजन करते थे। इसके बाद स्नान करते थे फिर दातुन आदि करते थे और उसके बाद शौच निवारण के लिए जाया करते थे। किसी ने पूछा महाराज सब तो पहले नित्य कर्म निपटाते हैं फिर स्नान करके भोजन ग्रहण करते हैं तो आप ये उलटा क्रम क्यों अपनाए हुए हैं? बाबा जी ने जवाब दिया -"भाई ये सारे नियम तो लोगों के बनाए हैं हम क्यों इन्हें अपनाएँ? हम तो अपना नियम खुद ही बनाते हैं, और वैसे भी जब ज़माना ही उल्टा है तो उल्टे चलने में ही भलाई है।"

ये तो था "अवधड़ बाबा का अवधड़ ज्ञान, पहले भोजन फिर स्नान" पर मैं सोच रहा हूँ की ज़माना तो सचमुच उल्टा ही है तो क्यों न कभी कभी उल्टा ही चलकर देखा जाए। आखिर औरों से कुछ हटकर तो होना ही चाहिए।

मसलन जैसे यदि कभी आप 'नो पार्किंग' में गाड़ी खड़ी कर दें तो पुलिस वाला आएगा गाड़ी उठा ले जाएगा या चालान काट देगा। आप आयेंगे, मिन्नतें करेंगे और पैसे देकर अपनी गाड़ी छुडायेंगे। इससे तो बेहतर है कि जाते ही पहले पुलिस वाले को सौ का नोट पकड़ाओ और शान से अपनी गाड़ी नो पार्किंग में टिका दो।

या पहले अपनी बीवी को कोई अच्छा सा तोहफा दो, आठ- दस बार उससे माफी मांगो और फिर जमकर झगड़ा करो। जो बीवी से झगड़ने के बाद करना है वो पहले ही कर लो।

ब्लॉग जगत में भी ये उल्टा चक्कर चलाया जा सकता है. जैसे कि-

# लोग टिप्पणी के बाद अपना लिंक छोड़ते हैं तो क्यों न ये किया जाए कि पहले तो अपने चार पांच लिंक टिकाएं जाएं फिर उसके नीचे एक लाइन की टिप्पणी चिपका दी जाए।

# हम पहले पोस्ट पढ़ते है ( या देखते हैं) फिर टिप्पणी देते हैं कभी यही करें कि पोस्ट आने से पहले ही टिप्पणी दे डालें. कुछ इस तरह-

आदरणीय/ प्रिय ............ जी आप कल/ परसों/ नरसों जो पोस्ट करने वाले हैं वह बहुत उम्दा है। मुझे बहुत ही अच्छा लगेगा। इस बेहतरीन प्रस्तुति के लिए मेरी अग्रिम बधाईयाँ स्वीकार करें। धन्यवाद।
( वैसे भी लिखना तो यही है और पोस्ट पढ़ना किसने है ) :)

तरीके और भी हो सकते हैं। आप सोचिये और तब तक मुल्ला नसरुद्दीन का एक किस्सा ही सुन लीजिये-

शनिवार, 5 मार्च 2011

तेरा क्या और मेरा क्या?

अस्सी और नब्बे के दशक में दूरदर्शन में ऐसे अनेक कार्यक्रम आया करते थे जिन्हें याद करके किसी का भी नॉस्टेलजिक हो जाना स्वाभाविक है मेरा भी बचपन और लड़कपन दूरदर्शन देखते हुए गुजरा है. ऐसे अनेक कार्यक्रम, धारावाहिक, शोज़, फ़िल्में, विज्ञापन इत्यादि हैं जो मुझे फिर उसी दौर में ले जाते हैं इनका रोमांच ही अलग है ऐसा ही एक कार्यक्रम था जो बच्चों के लिए आया करता था, हालांकि बहुत ज्यादा लोकप्रिय नहीं था, इसका नाम था 'टर रम टू' शायद आपको याद यह याद हो इसके प्रमुख पात्र थे नट्टू, हिसाबी, कटोरी, आज़ाद इत्यादि छोटी छोटी रोचक कहानियों और मजेदार संवादों के द्वारा इसमें बच्चों को गणित, सामान्य ज्ञान, अक्षर ज्ञान, नैतिक शिक्षा आदि सिखाया जाता था खेल खेल में सीखो के अंदाज में मुझे टर रम टू बहुत पसंद था हालांकि जिस आयुसमूह के बच्चों के लिए इसे बनाया गया होगा मैं उससे बड़ा ही था


पर आज इसे याद करने का कारण दूसरा है टर रम टू का एक टाइटल गीत भी था जिसके बोल थे - 'ये है टर रम टू रे भैया ये है टर रम टू' इसी गीत का एक अंतरा है जो पिछले कई सालों से मेरे जेहन में रह रह कर गूंजता रहता है वो कुछ ऐसा है-

यहाँ तेरा तो तेरा ही है...
और मेरा भी मेरा ही है...
पर तेरा भी मेरा ही है...
और मेरा भी तेरा ही है...
तो तेरा क्या और मेरा क्या...? 

गुरुवार, 24 फ़रवरी 2011

फ़र्ज़ और फर्क

बहुत भीड़ थी ट्रेन में. स्लीपर का डिब्बा भी जनरल बोगी जैसा लग रहा था. 

उस दिन कोई त्यौहार था और कोई मेला था मथुरा में. जैसे ही गाड़ी गंज बासौदा पहुँची ग्रामीणों का हुजूम ट्रेन के हर डिब्बे में टूट पड़ा. प्लेटफॉर्म पर भी जहाँ तक नज़र जाती थी लोग ही लोग दिख रहे थे. सूती साड़ी पहने महिलाएं और धोती कुरता पहने पगड़ी बांधे परुष और बुजुर्ग. इनके मैले कुचेले कपड़े और स्वास्थ्य इनकी आर्थिक स्थिति बयां कर रहे थे. हालत ये हो गई की स्लीपर के डिब्बों में भी जिसे जहाँ जगह मिली वहीं पसर गया. जनरल बोगी में तो घुसने की भी जगह नहीं थी. आने वाले हर स्टेशन पर भीड़ बढ़ती जा रही थी. स्लीपर के यात्री परेशान तो हो रहे थे विरोध भी कर रहे थे पर खुद को असहाय ही पा रहे थे.

अगले स्टेशन में गाड़ी के पहुँचते ही इस बोगी में अचानक एक महिला के चिल्लाने की आवाज़ आई और कुछ गाली गलौज की भी. लोगो ने चौंककर देखा कुछ हट्टे कट्टे युवक थे जो इन ग्रामीणों को बुरी तरह डांट और धमका रहे थे. ऊपर के बर्थ पर एक कुछ औरतें गठरी सी बनीं बैठी थीं इन युवकों में से एक ने एक औरत का हाथ पकड़कर उसे नीचे खींचा और चिल्लाया - उतरो यहाँ से बाप का डिब्बा है क्या? औरत गिरते गिरते बची. नीचे बैठे एक बूढ़े को एक गंदी गाली देकर दूसरे ने कसकर लात जमाई. वो बेचारा अपना पिछवाड़ा सहलाता हुआ उठ खड़ा हुआ. इसी तरह वे लोग इन्हें खींच खींचकर और धकेल धकेल कर वहां से भगा रहे थे और साथ में गालियों की बौछार भी किये जा रहे थे. इन लड़कों का ये रोद्र रूप देकर ग्रामीणों में अफरा तफरी मच गई. रोते चिल्लाते हुए वे वहां से भागने लगे. इनके  झोले बैग वगैरह भी इन लोगो ने उठाकर फ़ेंक दिए. बाकी यात्री चुपचाप ये तमाशा देखते रहे. आखिर इन्होने अपने बर्थ खाली करवा लिए और बैठकर बड़बड़ाने लगे.

गुरुवार, 17 फ़रवरी 2011

सवाल कुछ न पूछिए

हो गए हैं किस क़दर बेहाल कुछ न पूछिए।
हर तरफ फैला हुआ है जाल कुछ न पूछिए।

उस गाँव तक पक्की सड़क मंजूर तो हो गई,
कितने मगर उसमें लगेंगे साल कुछ न पूछिए।

दो बाल्टी पानी के लिए जंग छिड़ गई,
टैंकर से लगी भीड़ और बवाल कुछ न पूछिए।

बाबू मजे से बैठकर सब खेलते हैं ताश,
दफ्तर में हो गई है हड़ताल कुछ न पूछिए।

चार गुना दाम में बिकने लगे अनाज,
छाया हुआ क्षेत्र में अकाल कुछ न पूछिए।

पक्ष औ' विपक्ष में हुई जम के मारपीट,
दिल्ली है या लखनऊ कि भोपाल कुछ न पूछिए।

इंसान के ही जान की कीमत नहीं रही,
बिकता है यहाँ यूँ तो हर माल कुछ न पूछिए।

जमाने का भी आजकल दस्तूर है 'सोमेश',
जैसा है चलने दीजिए सवाल कुछ न पूछिए।

- सोमेश सक्सेना

शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2011

प्रेम में डूबी हुई लड़की की ब्लॉग कथा

कथासूत्र को समझने के लिए इस कहानी को पढ़ने से पूर्व इसकी पूर्वकथा को पढ़ना उचित रहेगा।
लड़की अब पूरी तरह प्रेम में डूब चुकी थी।

वह दिन रात लड़के के ही ख्यालों में खोई रहती। उसने अब प्रेम कवितायेँ लिखना शुरू कर दिया था। प्रेम और खुशियों की कविताएँ। दोनों अक्सर मिला करते। देर तक बातें करते और साथ में सपने बुनते। सपने, जो अब दोनों के साझा सपने थे। अब दोनों ब्लॉग की सीमा से भी परे हो गए। ब्लॉग के बाहर भी दोनों ने मिलना शुरू कर दिया। लड़का लड़की को उन सभी जगहों पर लेकर जाता जहाँ वो जाना चाहती थी और वे सारी चीज़ें दिखाता जो वो देखना चाहती थी। लड़का लड़की को अपने ब्लॉग पर भी लेकर गया। अपनी रचनात्मकता से भी उसे परिचित कराया।

इस तरह लड़की के पास खूबसूरत लम्हों का खजाना  इकठ्ठा होता गया। जब लड़का उसके साथ नहीं होता तो वो इस खजाने की पोटली को खोलती और एक एक लम्हे को याद करके फिर से जीती।

एक दिन लड़के ने लड़की से कहा के वो उससे एकांत में मिलना चाहता है।
"कहाँ?" लड़की ने पूछा।
"कहीं भी" लड़के ने कहा।
"तुम्हारे घर?"
"नहीं, वहाँ नहीं मिल सकते।"
"फिर?"
"फिर जहाँ भी तुम ले चलो।"

फिर लड़की ने अपने सपनों के संसार में एक सपनों का घर बनाया, ब्लॉग से बाहर। लड़की ने उसे नाम दिया - हमारा घर। दोनों उसी सपनों के घर में मिले और वहीं प्रथम बार लड़के के अधरों ने लड़की के अधरों को स्पर्श किया। लड़की असीम सुख में डूब गयी। और वही घर उन दो प्रेम में डूबे देहों के मिलन का गवाह भी बना। लड़की को लगा के अब उसने अपने होने का अर्थ पा लिया है। उसे लगा के अब वो मर भी जाये तो उसे कोई दुःख नहीं होगा। दोनों अब भावनात्मक, वैचारिक, रचनात्मक और दैहिक हर स्तर पर प्यार में डूब चुके थे।

काफी दिनों तक दोनों का प्रेम यूं ही चलता रहा। एक दिन लड़के ने लड़की से कहा कि अब तुम्हे कहानियाँ लिखना चाहिए। लड़की ने लड़के के कहने पर लिखी एक प्रेम कहानी। लड़के ने कहानी की प्रशंसा की और कहा कि इसे आगे बढ़ाओ। तुम्हारा मूल ध्येय सृजन करना है। इसके लिए यदि कुछ त्याग भी करना पड़े तो कोई बात नहीं लिखती रहो। लड़की सम्मोहित हो गयी। लड़का चला गया और लड़की अपने सपनों के घर में बैठकर लिखने लगी।

लड़की अकेले में बैठकर कहानी लिखती और लड़के का इंतजार भी करती रहती। लड़का शाम को आता लड़की का लिखा पढ़ता, तारीफ करता और लड़की को प्यार करता फिर वापस लौट जाता।  लड़की फिर से लिखने बैठ जाती। वो लिखती क्योंकि लड़का पढता।  लड़के का पढ़ना लड़की के लिखने को सार्थक कर जाता। धीरे धीरे लड़के ने आना भी कम कर दिया। अब वो दो-तीन दिन में एक बार आने लगा। लड़की के कहने पर वो कहता कि वो नहीं चाहता कि उसके आने से लड़की का कार्य बाधित हो। लड़की ने प्रेम की खातिर यह भी स्वीकार कर लिया।

एक बार ऐसा हुआ कि लड़का चार तक भी नहीं आया। लड़की को लड़के की बहुत याद आ रही थी पर उसे लगा शायद लड़का व्यस्त होगा। अगले दिन भी लड़का नहीं आया तो लड़की को चिंता  होने लगी। उसने लड़के से संपर्क करना चाहा पर ये भी न हो पाया। लड़की ने फिर भी इंतजार किया पर लड़का अगले दिन भी नहीं आया। अब लड़की की चिंता और बढ़ गई। लड़के के बिना उसे रहा भी नहीं जा रहा था। वो निकल पड़ी लड़के को ढूँढने। सबसे पहले लड़की अपने ब्लॉग पर गई उसी बेंच पर जहाँ वो उससे पहली बार मिली थी। लड़का वहाँ नहीं था। फिर लड़की उन सभी जगहों पर भटकती रही जहाँ जहाँ वो लड़के के साथ गई थी। पर लड़का कहीं भी नहीं मिला।

शनिवार, 5 फ़रवरी 2011

एक अकेली और उदास लड़की की ब्लॉग कथा

वह लड़की अकेली थी। अकेली और उदास। कोई साथी नहीं था उसका। अकेले अपने कमरे में बैठे बैठे सपने बुना करती थी। सपने जिनके सच होने की उम्मीद भी उसने छोड़ दी थी। वो चाहती थी कोई उसके साथ बात करे, उससे झगड़े, उसे मनाए, उसे बहलाए, उसके सपने सुने पर कोई नहीं था जो ये सब करता।

एक दिन उसे ब्लॉग के बारे में पता चला, उसने सोचा चलो जी बहला रहेगा और उसने एक ब्लॉग बना लिया। ब्लॉग में उसने अपने सपनों को सजाना शुरू कर दिया। अपनी कल्पना और रचनात्मकता से उसने ब्लॉग मे ही अपनी दुनिया बना ली।

उसने ब्लॉग में एक झील बनाई, झील के किनारे पहाड़ बनाया, झील के दुसरे सिरे में एक सुन्दर पार्क बनाया और उस पार्क में एक बेंच बनाई। उस बेंच पर बैठकर वो झील और पहाड़ के खूबसूरती को निहारा करती और सोचा करती। सोचा करती अपने अकेलेपन के बारे में, अपनी उदासी के बारे में और अपने जीवन के बारे में। सोचते सोचते उसने इन पर कविता लिखना शुरू कर दिया। उन कविताओं को भी उसने अपने ब्लॉग पर सजाना शुरू कर दिया। अपने सपनों के ब्लॉग में, सपनों की झील किनारे, सपनों के पार्क में, सपनों के बेंच में बैठ वह उन कविताओं को गुनगुनाया करती।

एक दिन जब वह अपनी एक कविता गुनगुना रही थी एक लड़का उसके पास आकर उसकी कविता सुनने लगा। लड़की ने जब कविता ख़त्म की तो लड़के ने ताली बजाई और उसकी प्रशंसा की। लड़की झेंप गई. उसने लड़के को देखा। लड़का उसी के उम्र का था। सुकुमार सा। उसके चेहरे पर कोमल भाव थे। लड़की को वो बिलकुल अपना सा लगा।  लड़का लड़की के पास ही बैठ गया। लड़के ने लड़की के कविता की तरीफ़ की। लड़की ने शुक्रिया कहा। लड़के ने बताया कि उसका भी एक ब्लॉग है और वह घूमते घूमते यहाँ आ गया। दोनो बैठकर बातें करने लगे। लड़के ने लड़की को अपनी कविताएं सुनाई। लड़की को पसंद आईं। दोनो देर तक बातें करते रहे। एक दूसरे के बारे में जानते रहे। लड़की को लड़के से बात करना बहुत अच्छा लगा।

अब दोनो अक्सर वहाँ मिलने लगे। मिलते और घंटों बातें करते। लड़की को लड़के का साथ बहुत अच्छा लगता। उससे बात करते हुए उसे लगता के समय थमा रहे। पर समय नहीं थमता और लड़की के अपने ब्लॉग से निकलकर अपने कमरे में जाने का समय हो जाता। फिर मिलने का वादा करके दोनो विदा होते। लड़की अब खुश रहने लगी। उसे सबकुछ अच्छा लगने लगा। उसने अब उदासी और अकेलेपन की कविताएं लिखना छोड़ दिया।

रविवार, 30 जनवरी 2011

मातृभूमि और राष्ट्रभक्ति...

लीलाधर जगूड़ी समकालीन हिन्दी साहित्य के प्रमुख और प्रतिनिधि कवि हैं. उनकी एक कविता जो मुझे बहुत प्रिय है अनायास याद आ रही है. चूँकि कई बार रचना रचनाकार से ज्यादा महत्वपूर्ण होती है और यहाँ मेरा उद्देश्य कविता को सामने लाना है कवि को नहीं, इसलिए कवि का परिचय दिए बिना मैं सीधे कविता ही दे रहा हूँ.
मिलाप 

थोड़ी सी श्रद्धा | थोड़ी सी मातृभूमि | थोड़ी सी राष्ट्रभक्ति से भरे
जो मनुष्य मिलते हैं हमेशा मुझे संशय मे डाल देते हैं.


बहुत सी श्रद्धा | बहुत सी मातृभूमि | बहुत सी राष्ट्रभक्ति वाले भी
मुझे कहीं न कहीं क़ैद कर देना चाहते हैं.


श्रद्धा जो अतार्किक आस्था है
आस्था जो तर्कातीत स्थिति है
मातृभूमि जो राजनीतिक परिसीमन है
और राष्ट्रीयता जो कि भौगोलिक जाति है
मुझे इस बहुत बड़े विश्व में अकेला कर देने के लिए काफी है


सीमित नागरिकता के बावजूद मेरे पास असीम राष्ट्र है
और असीम मातृभूमि
मुझे आल्पस से भी उतना ही प्यार है जितना हिमालय से


हम जितने ही मिश्रित होंगे
उतने ही कम अकेले और कम खतरनाक होंगे.


-लीलाधर जगूड़ी



सोमवार, 24 जनवरी 2011

रेलगाड़ी रेलगाड़ी...

परसों सलिल जी ने अपने ब्लॉग पर एक पोस्ट लिखी थी भारतीय रेलवे के बारे में। इसमें उन्होने एक रेलकर्मी की अनोखी सज़ा का वर्णन किया था। इस पोस्ट को पढ़कर हमें भी रेलवे से जुड़ी ढेरों बातें और ढेरों यात्राएं याद आ गयीं। भारतीय रेलों का महत्व हम सभी के जीवन में न केवल यात्रा के लिए है बल्कि इस के माध्यम से हम अपने देश की सांस्कृतिक विविधता से भी परिचित होते हैं मुझे तो खासतौर पर ट्रेन और प्लेटफार्म में लोगों को देखना उनके व्यवहार, भाषा, बातचीत, वेश-भूषा आदि का अध्ययन करना बहुत पसंद है।

पर इस समय मैं रेल के बहाने अपने बचपन को याद करना चाहता हूँ। नहीं जी, मेरे परिवार में कोई रेलवे में नहीं रहा पर फिर भी रेल यात्राओं से जुडी बहुत यादें हैं। मेरा पूरा बचपन रायपुर और उसके आसपास की जगहों में मतलब छत्तीसगढ़ में बीता है पर मेरे ननिहाल और ददिहाल दोनो ही बुंदेलखंड में है। सो हर वर्ष गर्मियों की छुट्टियाँ बिताने के लिए हम सब वहाँ जाते थे। इसके लिए हम छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस से रायपुर से झांसी का लम्बा सफ़र करते थे और इसी ट्रेन से वापिस भी आते थे ये आमतौर पर ये हमारी साल भर की अकेली रेल यात्रा होती थी (यदि बीच में कोई शादी वगैरह न पड़ी तो) और हम तीनो भाई बहन इसे खूब एंजॉय करते थे। रास्ते में खाते पीते लोगों से दोस्ती करते रास्ता कटता था। चूँकि मेरे ज्यादातर दोस्त आसपास के ही थे इसलिए अमूमन रेल यात्राओं से वे लोग वंचित रहते थे और इसी वजह से मैं अपनी यात्राओं का अनुभव बताकर उन्हें जलाने और प्रभावित करने की कोशिश करता था और अक्सर सफ़ल भी होता था।

उन दिनों को याद करता हूँ तो सबसे पहले मुझे कॉमिक्स याद आते हैं। बचपन में मैं कॉमिक्स का विकट शौक़ीन था और रेल यात्राओं के दौरान कॉमिक्स पढ़ना तो मेरा परम धर्म था। जैसे ही हम किसी स्टेशन पर पहुंचते थे मैं सबसे पहले बुक स्टॉल की तरफ भागता था और जब तक दो चार कॉमिक्स न ले लूँ वहाँ से टरता नहीं था। कॉमिक्स और रेल ये दोनों तो जैसे साथ में ही गुंथे हुए हैं बचपन की यादों मे। मुझे अगर कॉमिक्स नहीं दिलाया जाता था तो मैं आसमान सर पर उठा लेता था।

और भी यादें हैं मसलन जब हम ट्रेन से उतर चुके होते तो भी एकाध दिन तक यही लगता था जैसे ट्रेन में ही बैठे हों। (अब जाने क्यों ऐसा अहसास नहीं होता चाहे जितनी लम्बी यात्रा ही क्यों न कर लें)

उन्ही दिनों दूरदर्शन में एक विज्ञापन आया करता था भारतीय रेलवे का जो पूरा तो याद नहीं है पर उसकी आखिरी लाइन थी- "हम बेहतर इसे बनाएँ.... रेलवे..." इस विज्ञापन को देखकर मैं हमेशा रोमांचित हो जाता था और इंतज़ार करने लगता था कब रेल में बैठने को मिलेगा।
भारतीय रेलवे के १५० वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर जारी डाक टिकट 

रविवार, 16 जनवरी 2011

अखबार की खबरें और जोर का झटका...

रोज सुबह अखबार पढ़ना मुझे भी पसंद है। ज्यादा नहीं तो कम से कम एक अखबार तो होना ही चाहिए। पर अक्सर अखबार पढ़कर बहुत चिंतित हो जाता हूँ। ये चिंता दोहरे स्तर पर होती है। एक तो बड़े बड़े घोटालों, घपलों, मंहगाई, अन्याय और राजनैतिक दांव-पेंच की खबरें परेशां करती ही हैं, देश और समाज की चिंता हो आती है। पर दुसरे स्तर कि चिंता अधिक भयावह होती है। जिससे कि मैं खुद को अधिक जुड़ा महसूस करता हूँ। हर दिन शहर में दो चार रोड एक्सीडेंट होते ही हैं। रोज किसी न किसी के मारे जाने कि खबर छपती है। पढ़कर डर लगता है कि कभी मेरे साथ या मेरे अपनो के साथ भी तो ऐसा हो सकता है। फिर चैन स्नेचिंग, लूट, चोरी, ठगी आदि की खबरें भी छपती हैं और मैं फिर डरता हूँ कि कितने असुरक्षित हैं हम। कोई बड़ा हादसा शहर में घटित होता है तो उसका ब्योरा अखबार में पढ़कर एक किस्म का डर सा लगता है कि ऐसा तो हमारे साथ भी हो सकता है

एक बार तो मैंने यह तय किया था कि अखबार में ये अपराध और दुर्घटनाओं याली खबरें पढूंगा ही नहीं। पढ़ना ही हुआ तो सिर्फ हैडिंग ही पढूंगा। कुछ दिन तो यह सिलसिला चला पर फिर मैंने सोचा कि आँखें बंद करने से हकीकत तो नहीं बदल जाएगी। और कब तक ऐसे डर- डर कर जिया जा सकता है। और सच तो ये भी है कि भले ही डर लगे लेकिन ऐसी सनसनी वाली खबरें पढ़ने से खुद को रोक भी नहीं पाता। फिर हर बार ये खबरें पढ़कर कुछ न कुछ सबक तो मिलता ही है कि क्या सावधानी बरतनी चाहिए। कुछ भी हो अखबार पढ़ना तो हम नहीं छोड़ेंगे।

पर कभी कभी ऐसी खबरें भी पढ़ने को मिल जाती हैं जो गुदगुदा जाती हैं। ऐसी ही एक खबर पर दो दिन पहले नज़र पड़ी। भोपाल के किसी पति की दास्ताँ थी ये बेचारा किसी बहुराष्ट्रीय कंपनी मे काम करता है और जिस दिन भी वो सात बजे तक घर नहीं आ पता था उसे रात बाहर गुजारनी पड़ती थी। पत्नी घर में घुसाने ही नहीं देती थी न। पर क्यों आखिर? दर असल इन्होने प्रेम-विवाह किया था और शादी से पहले लडकी ने लड़के से स्टाम्प पेपर में अपनी कुछ शर्तों मे साइन करवा रखा था। उन्ही में से एक शर्त थी कि यदि लड़का सात बजे तक घर नहीं आया तो लड़की उसे घर में घुसने नहीं देगी। कुछ और शर्तें भी देख लें

एक समय खाना मैं बनाउंगी, एक समय तुम।

रात नौ के बाद घर में टी.वी. नहीं चलाओगे।

शराब पूछ कर पीओगे।

मां से नहीं मिलने जाओगे

पहले तुम्हारे रुपयों से घर खर्च चलाया जाएगा फिर मेरे रुपयों से

मकान मेरे नाम पे खरीदोगे

इत्यादि...

लड़के ने सोचा होगा कि मज़ाक कर रही है फिर प्यार का भूत भी रहा होगा सो उसने सब स्वीकार कर लिया। कुछ महीने तो ठीक चला पर उसके बाद बीवी ने बाकायदा सारी शर्तों का पालन करना शुरू कर दिया। कई बार घर आने पर वो सूंघ कर देखती कि कहीं शराब पीकर तो नहीं आया। एक बार तो शक होने पर ब्लड टेस्ट भी करवा लिया था। जब लड़के ने कई रातें स्टेशन में गुजारीं तब उसके बर्दाश्त के बाहर हुआ। उसने सीधे सीएसपी को फोन लगाया और धमकी दी कि यदि उन्होंने मामला नहीं सुलझाया तो वो आत्महत्या कर लेगा। पुलिस ने दोनों को बुलवाकर परामर्श किया और कुछ समझौता करवाया।

बेचारा लड़का वो तो बस यही गाता रहता होगा- "जोर का झटका हाय जोरों से लगा, शादी बन गयी उम्रकैद की सज़ा...

इस खबर को पढ़कर थोड़ा अच्छा भी लगा कि अब लडकियां भी अपने शर्तों पर शादी कर रही हैं, पतियों की मनमानी अब नहीं चलेगी। पर उस पति पर तरस भी आया। अब सारे पुरुषों का बदला उस बेचारे से लिया जाए ये भी तो उचित नहीं है न?

शुक्र ये है कि इसे पढ़कर मुझे डर नहीं लगा कि ऐसा मेरे साथ भी हो सकता है क्योंकि संयोग से मैं पहले से ही शादीशुदा हूँ और सौभाग्य से मैंने ऐसी किन्ही शर्तों पर शादी नहीं की है। फिर हमारी आपसी अंडरस्टेंडिंग इतनी बुरी नहीं है कि ऐसी नौबत आए।
(कम से कम मैं तो यही समझता हूँ)

हाँ ये खबर शादी के पहले पढ़ ली होती तो शायद डरके मारे शादी ही नहीं करता।
(अब ये भी दिल को बहलाने वाली बात है, वरना क्या शादी के पहले ऐसी बातें नहीं सुनी थी?)

अब एक बात और मेरे दिमाग में घूम रही है पति पत्नी के सारे चुटकुलों में पति को ही बेचारा क्यों बताया जाता है? कहीं वो पत्नी के ज्यादा बोलने से पीड़ित है, कहीं उसके टोकने से, कहीं उसके मोटापे से, कहीं झगडालूपन से तो कहीं उसके देहातीपन से। और तो और इन सारे चुटकुलों में पत्नी नामक प्राणी को निहायत ही बेवक़ूफ़ और बातूनी बताया जाता है। क्योंकर?

मंगलवार, 4 जनवरी 2011

एक असामान्य दिन

इस तरह हुई नए साल की शुरुआत...
कुछ व्यस्तताओं की वजह से यह लेख कुछ देर से पोस्ट कर रहा हूँ। 
 
हम और आप रोज काम पर जाते हैं और वही रूटीन काम रोज करते हैं। पर सोचिये किसी दिन आप अपने कार्यस्थल पर जाएं और काम के बजाए पिकनिक करें तो कैसा रहेगा? हो सकता है आप मैं से कई लोगों के लिए ये आम बात हो पर अपने लिए तो कुछ असामान्य सा है। कुछ ऐसे ही बीता मेरा नववर्ष का पहला दिन।

तो इस दिन की प्लानिंग तो पहले ही चल रही थी, हमें कहा गया था कि पहली जनवरी को सारे स्टाफ मेम्बरान साँची घूमने जायेंगे पर एक दिन पहले ही पता चला की ये कार्यक्रम निरस्त हो गया है। हमारे संस्थान में ऐसा होता रहता है। खैर इस दिन बच्चों की छुट्टी कर दी गई और हम सब से कहा गया कि कॉलेज केम्पस में पार्टी होगी। तो सुबह कॉलेज पहुंचे। सारे लोग मुख्य ईमारत के सामने इकट्ठा हुए और फिर एक दूसरे को शुभकामनाएँ देने का सिलसिला शुरु हुआ। जिन लोगो से मेरी कभी बातचीत नहीं हुई थी (विभाग अलग होने की वजह से, मैं फार्मेसी विभाग में पढ़ाता हूँ) उनसे भी गले लग लग कर शुभकामनाएँ ले-दे रहा था।

खैर कुछ देर तक ये सिलसिला चलता रहा फिर पता चला कि आज सब भोजपुर जाने वाले हैं। चलिये ये भी सही है। तो साहब सारे टीचिंग और नॉन टीचिंग फेकल्टी मेम्बर ( हमारे बीच यही पॉपुलर है इसलिये हिन्दी तर्ज़ुमा नहीं कर रहा हूँ) संस्थान की तीन बसों मे भरकर निकले। लगभग सवा सौ लोग थे। रास्ते में इंजीनियरिंग, फार्मेसी और मेनेजमेंट के शिक्षकगण और अन्य कर्मचारी बच्चों की तरह हल्ला करते जा रहे थे।

जो लोग भोजपुर के बारे में नही जानते उनके लिए बता दूँ कि भोजपुर भोपाल से लगभग ३२ कि. मी. दूर एक दर्शनीय स्थल है। यहाँ बेतवा नदी के तट पर एक पहाड़ी में राजा भोज द्वारा बनवाया हुआ एक दसवी शताब्दी का शिव मंदिर है। किन्ही कारणों से मंदिर का निर्माण अधूरा रह गया। सबसे खास बात है यहाँ का शिवलिंग जिसके बारे में कहा जाता है कि यह विश्व का सबसे बड़ा शिवलिंग है (योनिपट्ट सहित २२ फीट ऊँचा)। वैसे राजधानीवासियों के बीच यह जगह धार्मिक स्थल से ज्यादा पिकनिक स्पॉट के रूप में मान्य है।

तो दोपहर तक हम सब वहाँ पहुंचे। वहाँ देखा तो मेला सरीखा लगा रखा था। काफी लोग वहाँ आये थे। कुछ स्कूलों के बच्चे भी पिकनिक मनाने आए हुए थे। शायद नये वर्ष के पहले दिन लोग मंदिर जाकर दर्शन करना शुभ मानते हैं और यहाँ दर्शन के साथ घूमना फिरना भी हो जाता इसलिए इतने लोग आज यहाँ नज़र आ रहे हैं।

तो भैया पहले तो हम अपने दो चार मित्रों के साथ मंदिर में दर्शन कर आए फिर घूमना शुरु किया। बेतवा नदी के किनारे पहुंचे, ऊपर चट्टान से नीचे घाटी का नजारा लिया। नदी में पानी कम है और ठहरा हुआ है, इसलिए तालाब सा लगता है। ज्यादातर नदियों की अब यही स्थिति रह गई है। छोटी नौका में लोग बोटिंग का लुत्फ़ ले रहे थे। वहाँ काले मुंह वाले बंदर भी खूब थे। लोगो को डरा कर उनकी खाने की चीज़ें (अमरूद, लड्डू आदि) छीन लेते हैं और फिर आपस में छीना झपटी मचाकर निपटा देते हैं।

दो इस तरह घूमते फिरते काफी वक्त बीत गया। तेज भूख लगने लगी थी। नीचे छोटा सा बाज़ार सा लगा हुआ था जहाँ पूजन सामग्री सहित ढ़ेर सारी वस्तुएं बिक रहीं थीं वहीं एक दुकान से कचोड़ियाँ खायीं। लेकिन इससे क्या होता है? वैसे कॉलेज वालो ने भोजन की व्यवस्था भी की थी (यह एक और सुखद आश्चर्य था)।

तो वहाँ से सब लोग एकत्रित होकर मंदिर कुछ दूर स्थित एक जैन मंदिर गए। वो भी मनोरम सी जगह है खुली सी। उद्यान भी है। वहीं पर एक जैन परिवार भोजनालय चलाता है। यहाँ दाल-बाफले का ऑर्डर पहले ही दे दिया गया था। भोजनालय के बगल में काफी खुली सी जगह थी वहीं टाटपट्टियाँ बिछाकर सबको बैठाया गया और दाल बाफले खिलवाए गए। खाना दो पालियों में हुआ, हम दूसरी पाली में बैठे। तब तक साढ़े चार बज गए थे। बहुत भूख लगी थी। इसलिए  दाल और  कढ़ी में  मिर्च अधिक होने के बावजूद खूब बाफले खाए। इसके बाद वापस बस में बैठे और घर की और रवाना हो गए। घर आकर इतने थक चुके थे कि बाकी सारी शाम आराम करने में बीती।

चूँकि हमें फोटोग्राफी का भी बहुत शौक है इसलिए मौका देखकर अपना कैमरा भी रख लिया था। तो वहाँ जमके फोटोग्राफी की। कुछ फोटो हम भी खींचवा लिए। अब सारे तो आपको दिखा नहीं सकते इसलिए कुछ ही आपको दिखा रहा हूँ, देखिये और आनंद लीजिये। :)

ये है भोजपुर का मंदिर

फ्रंट व्यु: भीड़ तो देखिए

हम सोचे हम भी मंदिर के सामने फोटू खींचवा लें

ये है विश्व का  सबसे बड़ा शिवलिंग

पीछे बेतवा नदी नजर आ रही है